• 18 March 2024
  • jackson13bhai@gmail.com
  • 0

सात चरणों में होने वाले लोकसभा चुनावों (Lok Sabha election)  ने राजनीतिक बहस छेड़ दी है, खासकर सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को संभावित लाभ और विपक्ष की चिंताओं को लेकर। आइए इन चुनावों और उनके निहितार्थों के बारे में विस्तार से जानते है ।

विपक्ष पार्टी का आरोप

विपक्ष ने सात चरणों में होने वाले चुनाव पर आपत्ति जताई है और आरोप लगाया है कि इससे बीजेपी को फायदा होता है. जिसका तर्क है कि कई चरणों में चुनाव कराने से सत्ताधारी पार्टी को फायदा पंहुचा सकती है, जिससे उन्हें मतदाताओं को एकजुट करने के लिए अधिक समय और संसाधन मिलेंगी ।

अब क्या फ़र्क पडेग़ा पिछले चुनावों से तुलना मे

2019 लोकसभा चुनाव की तरह ही इस साल का चुनाव भी सात चरणों में हो रहे है, कुछ राज्यों में पिछले चुनावों की तुलना में मतदान की तारीखों में बदलाव का अनुभव हुआ है, जिससे चुनाव कार्यक्रम को लेकर विवाद बढ़ गया है।

See also  Shocking Twist in Indian Cricket! Why Ashish Nehra Turned Down BCCI's Mega Offer, Leaving Rahul Dravid in the Spotlight! 🏏

राज्यों में मतदान की गतिशीलता

राजस्थान और मध्य प्रदेश जैसे राज्यों में इस बार शुरुआती चरणों में मतदान हो रहा है, जबकि 2019 के चुनावों (Lok Sabha election) के विपरीत जहां मतदान बाद में हुआ। यह बदलाव संभावित रूप से राज्य विधानसभा चुनावों में अपनी हालिया जीत का फायदा उठाकर भाजपा को फायदा पहुंचा सकता है।

क्षेत्रीय राजनीति पर प्रभाव

ओडिशा और तेलंगाना जैसे राज्यों में मतदान कार्यक्रम में बदलाव क्षेत्रीय राजनीतिक गतिशीलता को प्रभावित कर सकता है। पार्टियां अपनी रणनीतियों को तदनुसार अपना रही हैं, और बदले हुए वोटिंग पैटर्न को भुनाने के लिए गठबंधन और बातचीत को केंद्र में रखा जा रहा है।

महाराष्ट्र मे चुनाव (Lok Sabha election) असर

पहले चरण से शुरू होकर, महाराष्ट्र अपने पांच चरण के मतदान कार्यक्रम के साथ सबसे आगे है। इसके विपरीत, महाराष्ट्र में 2019 का लोकसभा चुनाव चार चरणों में आयोजित किया गया था। 2024 के चुनावों की विस्तारित अवधि बढ़ी हुई राजनीतिक गतिविधि और व्यस्तता का संकेत देती है।

See also  Suryakumar Yadav's Epic Redemption! From ODI Struggles to T20 Triumph – The Jaw-Dropping Turnaround That Has Cricket Fans Buzzing!

निष्कर्ष

सात चरणों में होने वाले 2024 के लोकसभा चुनाव (Lok Sabha election) एक लंबी और गहन राजनीतिक लड़ाई का संकेत देते हैं। शेड्यूलिंग गतिशीलता, विशेष रूप से पिछले चुनावों से परिवर्तन, चुनावी लाभ सुरक्षित करने के लिए राजनीतिक दलों के रणनीतिक पैंतरेबाज़ी को रेखांकित करते हैं।

Also Read – ट्रंप के विवादित बयान से छिड़ी बहस

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *