Rohit Sharma
  • 11 February 2024
  • jackson13bhai@gmail.com
  • 0

1. कप्तानी की मुश्किलता:

  • मुंबई में एक आयोजन के दौरान, भारतीय कप्तान Rohit Sharma ने अपने कप्तानी के रोल पर चर्चा की।
  • उन्होंने खिलाड़ियों के बीच आत्मविश्वास और विश्वास को बढ़ाने के महत्व को बलात्कारित किया।

2. खिलाड़ियों को संभालना: Rohit Sharma

  • रोहित ने अपनी कप्तानी के कई पहलुओं पर जोर दिया, जैसे कि खेल के क्षेत्र पर रणनीतिक निर्णय और खिलाड़ियों के व्यक्तित्व का प्रबंधन।
  • वह हर खिलाड़ी के साथ व्यक्तिगत रूप से बातचीत करने का प्रयास करते हैं, हर किसी को बराबरी से और महत्वपूर्ण मानते हैं।

3. आत्म-विश्वास और विश्वास का निर्माण:

  • Rohit Sharma ने कहा, “आत्म-विश्वास को बढ़ाना सबसे मुश्किल है। क्योंकि वे अलग मानसिकता के साथ आते हैं और वे वही करना चाहते हैं जो वे करना चाहते हैं।”
  • उन्होंने अपने खिलाड़ियों को सामूहिक महत्व और आत्म-विश्वास का महत्व समझाया।

4. खिलाड़ियों के साथ बातचीत:

  • रोहित ने खेलकरों के कमरों में जाकर उनके साथ बातचीत करने का महत्व भी बताया।
  • वह उन्हें समर्पितता और रोल क्लैरिटी देने का प्रयास करते हैं।
See also  हमें किसी भी पिच पर खेलने और जीतने की शक्ति है - Rohit Sharma के बाद राजकोट विजय

निष्कर्ष: Rohit Sharma के अनुभवों से हमें यह सिखने को मिलता है कि कप्तान की सबसे मुश्किल चीज़ उनकी टीम को अपनी इच्छानुसार काम करने के लिए प्रेरित करना होती है। इसमें आत्म-विश्वास और विश्वास का महत्वपूर्ण भूमिका होती है।

Also Read – Shreyas Iyer को बाकी तीन टेस्ट मैचों

Tags: